गुरुवार, जुलाई 22, 2010

चाँद जाने कितने चक्कर लगाएगा






जाने चाँद कितने चक्कर काटता रहता है
कितनी गलियों से गुजरता है धीरे -धीरे
ऐसे तैसे कर के रोज़ पूरी रात गुजारता है
कुछ युहीं बेख्याल सा इक निशाना लगता है
कुछ युहीं बेसुध उछाल देता है कंचे
मकानों की छतों पे रुक कंचे खेलता है


घूमता घूमता फिर मेरी खिड़की पे आ टिकता है
शायद अब नींद आ ही गयी होगी ये सोच के
गोल गोल एड़ियों को उचका मुझे देखता है
देख मेरी खुली सी आँखे वो फिर मुड़ जाता है
"ये भी कोई बात हुई,मैं क्यूँ जागूँ ,तेरे संग "
गोल मटोल सा चाँद टेढ़े मेढ़े मुहं बनाता है
जाने चाँद कितने और चक्कर मेरे लिए लगाएगा
पुरानी गलियों से गुजरेगा फिर धीरे -धीरे
ऐसे तैसे कर के रोज़ की तरह ये रात भी गुजारेगा

1 टिप्पणी:

rakesh ने कहा…

Bahot he umda .... mujhay to Pahla paragraph bahooooot accchhha laga ek dum Gulzar k tuch wala :) ...ek dum ussi sailee main likhii hai


or hannn iss poem ka profile pic ..... perfectlyyyy matched with the essence of poem