शनिवार, नवंबर 05, 2011

तन्हाँ




मुद्दतों  से  दिल  तन्हा है , खाली - खाली  है  

ना रंज ओ ग़म,ना कोई शिकवा  शिकायत  है 


क्यूँ  कर  तेरी  यादें  तन्हाँ  छोड़ गयीं मुझको !




 ....जोया ****

9 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

तन्हाई की भी पराकाष्ठा

M VERMA ने कहा…

यादों का तन्हाई से गहरा सम्बन्ध जो है

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhaut khub.....

रश्मि प्रभा... ने कहा…

waah

रश्मि प्रभा... ने कहा…

waah

SAJAN.AAWARA ने कहा…

yaden bhi tanha kar deti hain...
behtreen..
jai hind jai bharat

इमरान अंसारी ने कहा…

यादें भी साथ छोड़ गयीं :-(

ebtedaa..... ने कहा…

yaadoo se hi to her pal bhera-bhera sa rehta hai....

abhi ने कहा…

:) :)