गुरुवार, अगस्त 19, 2010

रात के इस चार बजे


 
ना आवाज़ ही किसी की

ना ही खटका किसी का

चाँद भी ऊंघ-२ के सो गया

दूर दूर तक फैले सन्नाटे

बारिश में गीली हुई सड़कें

ये भी मानो थक के सो गयी

पेड़ भी अपने काँधे झुकाए

गहरी सी नींद में लगते हैं

और रात के इस चार बजे

बस दो चीज़ें ही गोल गोल

लगातार बेसुधी में घूम रही हैं

 
इक मेरी छत का ये पँखा

और इक मेरी ये दो आँखें !!!!!!!
.
 
 

18 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत भावपूर्ण!!

धीरेन्द्र सिंह ने कहा…

प्रभावित करती हैं कवितायेँ. आपकी सोच का दायरा काबिले तारीफ़ है. लिखते रहिये, इसी तरन्नुम में, इसी अंदाज़ में ...

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर|

Din ने कहा…

Venus ji , sach kahun kayi baar maine bhi aisa hi mehsoos kiya hai..aisa lag raha tha jaise main apni hi koi nazm padh raha hu...aur wo pankha ghoomne waali baat to bilkul aisa laga jaise aapne mere dil ki aat likh di ho...bahut achhi feel hai nazm ki...padhna bahut bhaya :)

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

naye andaz mey likhi ye nazm mujhey pasand ayee,aapmey baaton ko samajh kar likh pane ki kableeyat hat.swagat ,shubhkamnayen
dr.bhoopendra
jeevansandarbh.blogspot.com

sakhi with feelings ने कहा…

bhaut khub khud me gum si apni si kavita

Sanjeet Tripathi ने कहा…

beautiful.....

"Zoya (Russian) is a feminine Russian first name, a variant of Zoe. Meaning "life."

kaushalendra ने कहा…

Oh noooo! Realy I'v no words....U r not only depicting your feelings but livilng in poems with all your isness.It is hard to say whether U r in the poems or the poems r in you. Aapki abhivyakti andar tak bhigaa jaati hai,kripayaa barasti rahen.

इमरान अंसारी ने कहा…

सुभानाल्लाह ....पोस्ट की तस्वीर और कविता अच्छी लगी....पर आखिर में घुमने वाली दो चीजों में मुझे पंखा नहीं जंचा..

आनन्‍द पाण्‍डेय ने कहा…

ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

आप भी सादर आमंत्रित हैं,
http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
प्रसार में अपना योगदान दें ।
धन्‍यवाद

Arvind Mishra ने कहा…

हा हा वाह तत्क्षण आशु काव्य!

राकेश कौशिक ने कहा…

प्रभावशाली प्रस्तुति

Mithilesh dubey ने कहा…

bahut khub , lajwab

वन्दना ने कहा…

सुन्दर भावाव्यक्ति।

पी के शर्मा ने कहा…

वाह वाह वाह
अच्‍दा लगा आपका ब्‍लॉग
http://chokhat.blogspot.com/

venus**** ने कहा…

aap sab kaa tah e dil se shkriyaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa
hounslaa afzaaayi ke liye........bhii
take care

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

संगीता पुरी ने कहा…

इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!