शनिवार, जनवरी 30, 2016

सिर्फ इक शब्द.. !


कुछ हफ्ते पहले हफ़्तों लगा के लिखी थी 
वो नज़्म, देखा लड़खड़ा के चल रही थी 
उसीके आगे सुस्त चाल चल रही थी 
इक ग़ज़ल कुछ दिन पहले जो लिखी थी 
त्रिवेनियाँ भी चला रही हैं काम किसी तरह 
पर हालत इतनी खस्ता थी की क्या कहुँ  
सोच में डूबी रही हफ़्तों इन्हें हुआ क्या है 
जहाँ तहां गिरी पड़ी हैं ,लंगड़ा के चलती हैं 
कुछ तो हुआ है इन्हें, जाने पर हुआ क्या है 

पोटली निकाली पुरानी नज्मों ग़ज़लों की 
इक - इक पलट - पलट के देखी, पढी 
और बात समझ में आ गयी  
मुस्कुरा के रख दी पोटली वापिस मैंने 

वही लफ़्ज़, वही कलम, वही मैं 
सब कुछ वही तो था, ना था तो बस 

सिर्फ इक शब्द  
जो उन सब ग़ज़लों नज्मों में बसा था 
सिर्फ इक शब्द 
वो इक शब्द जो अब मेरी सोच में नहीं 
मेरी नज्मों में नहीं मेरी ग़ज़लों में नहीं  
मेरी कलम में नहीं, मेरी सयाही में नहीं  
शायद वो "अब" मेरी जिंदगी में नहीं  

वो इक शब्द जो मेरी कलम को अक्सर 
खून में दर्द की सियाही मिला-२ पिलाता   
और फिर दर्द ही दर्द हर हर्फ़ में उभर आता
बस ...सिर्फ इक उसी शब्द के न होने से 
कलम खून की कमी से लड़खड़ा रही है 

सिर्फ इक शब्द...................."तुम" !
 ज़ोया****

penned on "Mar 21 ,2010"
pic from Google

12 टिप्‍पणियां:

Digvijay Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 01 फरवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना ।

आपके ब्लॉग को यहाँ शामिल किया गया है ।
ब्लॉग"दीप"

यहाँ भी पधारें-
तेजाब हमले के पीड़िता की व्यथा-
"कैसा तेरा प्यार था"

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

Digvijay ji..yahaan tak pahunchne aur sraahne ke liye dhanywaad...
rchnaa ko link krne ke liye aabhaar

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

साहनी ji yahaan tak pahunchne aur sraahne ke liye dhanywaad...
blog ko shaamil krne ke liye aabhaar

i Blogger ने कहा…

We want listing your blog here, if you want please select your category or send by comment or mail Best Hindi Blogs

Aayan (maqbool Ansari) ने कहा…

Dill KO jhanjhod kar rakh diya...aakhri lines k bad ka wo. Last lafz. Jo dill ki qalam KO dill ki khoon mai dubokar qalam KO talwaar bana diya ...... Aur usi qalam be dill k hazaron tukde karke. ..khoon ki siyahi ...main doobkar .. Dill k unhi masoom tukdon ki ..kahani likhti h wo qalam.. Be Raham ... Yani ... Tum :'( yes tum ..ye tum chota lafz to h ..magar sirf tum. Bahot taklif bhi deta h .... Aayan ... 9737582991 ... Really touched ...last one n only one. (Tum)

Aayan (maqbool Ansari) ने कहा…

Dill KO jhanjhod kar rakh diya...aakhri lines k bad ka wo. Last lafz. Jo dill ki qalam KO dill ki khoon mai dubokar qalam KO talwaar bana diya ...... Aur usi qalam be dill k hazaron tukde karke. ..khoon ki siyahi ...main doobkar .. Dill k unhi masoom tukdon ki ..kahani likhti h wo qalam.. Be Raham ... Yani ... Tum :'( yes tum ..ye tum chota lafz to h ..magar sirf tum. Bahot taklif bhi deta h .... Aayan ... 9737582991 ... Really touched ...last one n only one. (Tum)

Aayan (maqbool Ansari) ने कहा…

Dill KO jhanjhod kar rakh diya...aakhri lines k bad ka wo. Last lafz. Jo dill ki qalam KO dill ki khoon mai dubokar qalam KO talwaar bana diya ...... Aur usi qalam be dill k hazaron tukde karke. ..khoon ki siyahi ...main doobkar .. Dill k unhi masoom tukdon ki ..kahani likhti h wo qalam.. Be Raham ... Yani ... Tum :'( yes tum ..ye tum chota lafz to h ..magar sirf tum. Bahot taklif bhi deta h .... Aayan ... 9737582991 ... Really touched ...last one n only one. (Tum)

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

ayan (maqbool Ansari) ji..bahut bahut shukriyaa aapkaa...yahaan tak aane..aur rchna ko sraahne ke liye tah e dil se shurkiya

Unknown ने कहा…

bahut khub

बेनामी ने कहा…

bahut achi kavita

बेनामी ने कहा…

bahut khubsurat