बुधवार, सितंबर 08, 2010

आँखों की खुसबू



आज पूरी दोपहर आँखें महकती सी रही

इक खुशबू थी की पूरा दिन फैलती रही

अगला कदम उठाऊं तो मिराज़ दिखता

इतनी बार आँखें धोईं .कितनी बार मलीं

पर जाने कैसी खुसबू थी की बस हटी नही

पूरा दिन महकता रहा फिर पूरी शाम महकी

आज कुछ बुरा नही लगा मुझे कुछ भी नही

ना सड़क का ट्रैफिक..ना स्टुडेंट्स की किचकिच

चिलचिलाती धूप भी मानो रेशम हो गयी हो

फिर यूँ लगा खुशबू धूप से मिल गयी हो और

आँखों से गाल तक इक सुनहेरी तह जम गयी

तादीन चमकता रहा .मेरा तारात महकती रही

यहांतक के शाम घर पहुँचते .....रोज़ की तरह

पड़ोसन का आदतन घूरना भी बुरा नही लगा

वो खुशबू मेरे साथ साथ घर तक आ पहुंची

हथेलियाँ से चेहरा छुआ ..कुछ महसूस हुआ

वो धूप सी चमक उँगलियों पे चिपक गयी

कितनी जानी पहचानी सी थी ये चमक

अचानक नज़र सामने पड़े कलेंडर पर पड़ी

आह!तो ये बात है.....मुस्कुरा उठी अकेले ही

आज के दिन ही तुम्हारी आँखों ने छुआ था

मेरी आँखों को सो आज तक महक रही हैं

तुम्हारी आँखों का वो स्पर्श .......हर साल

मेरी आँखों को इस तरह महका जाता है

ज्यूँ कहता हो ........."हैप्पी एनिवर्सरी"

और कहता हो ये दिन यूँ ही याद रखना !

11 टिप्‍पणियां:

Anjana (Gudia) ने कहा…

bahut khoob!

Udan Tashtari ने कहा…

"हैप्पी एनिवर्सरी"


-बधाई एवं शुभकामनाएँ.

Sunil Kumar ने कहा…

दिल और दिमाग की उथल पुथल को शव्दों में अच्छा व्यक्त किया है अच्छा लगा बधाई

संजय भास्कर ने कहा…

सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

संजय भास्कर ने कहा…

कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

venus**** ने कहा…

aap sab kaaaa tah e dil se shurkiyaaa............aapki is hounslaa afjaayi ki shukrguzaar hun
take care

kaushalendra ने कहा…

Joyaaa! dekhaa na! puraani yaaden zindagi ko kitnaa boost up karti hain.Kuchh hi din pahle likhaa thaa-"vo ek pal...bayaan kyaa karun...." what a similarity of feelings.Is reshami si rachanaa ke liye meraa aashirvaad...

क्षितिजा .... ने कहा…

kahaan gum hain aap...??

प्रकाश गोविन्द ने कहा…

बहुत सुन्दर भावमयी अभिव्यक्ति
आभार

शुभ कामनाएं

mridula pradhan ने कहा…

bahut sunder.

Pallavi ने कहा…

yh tho sach hai ki aap ne likha bahut sunder hai magar muje yh kuch kuch GULZAR sahab ki ek nazam se milta julta lagta...well keep writting and keep reading as well bcoz if you want to become a good writer you should have to a good reader as well:)...take care