बुधवार, अप्रैल 06, 2011

तुम तो बेपरवाह वक़्त हो गये हो




कभी यूँ ही आके पल में गुजर जाते हो
कभी पहरों बीत जाने पर भी नहीं जाते

गोया तुम तो बेपरवाह वक़्त हो गये हो
*

  दिन चढ़ते ही हो जाते हो आँख से ओझल  
दिन ढलते ही मेरी आँखों में उतर आते हो

गोया तुम तो छुए-मुए चाँद से हो गये हो
*

कभी इकसार  मेरे  साथ - २ चले चलते हो
कभी बिछड़ जाते हो अंजाने मौड़ की तरह

गोया तुम तो अजनबी रास्तों से हो गये हो

*

 कभी सहला जाते हो मेरी ज़ुल्फ़ में उलझ के 
कभी कटीले  झोंके सा ज़ेहन झंझोर जाते हो

गोया  तुम तो बे-नियाज़ी हवा से हो गये हो 


.
  जोया**** 

8 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर ने कहा…

बहुत ही बढ़िया.

सादर

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत भावमयी अभिव्यक्ति..बहुत सुन्दर

nivedita ने कहा…

quite impressive....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

:):) बहुत खूबसूरत

गोया तुम तो बेपरवाह वक़्त हो गये हो *...ऐसी सारी पंक्तियाँ पढने में रंग परेशान कर रहा है ..

इमरान अंसारी ने कहा…

इतनी खूबसूरती से खेलते हो लफ़्ज़ों से,

गोया तुम तो दीवाने शायर हो गए हो :-)

हरीश सिंह ने कहा…

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन उन्नति की ओर अग्रसर हो, आपकी लेखन विधा प्रशंसनीय है. आप हमारे ब्लॉग पर भी अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "अनुसरण कर्ता" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
माफियाओं के चंगुल में ब्लागिंग

वाणी गीत ने कहा…

गोया तुम क्या क्या नहीं हो गए हो ...
सुन्दर !

संजय भास्कर ने कहा…

>>>>>बहुत खूबसूरत<<<<<<