सोमवार, मई 06, 2013

कान्हा रूठे





राहें बदली 
वजह मामूली सी  
सिर्फ अना  


*************

दिल झुलसा 
जम गयी हर शै
सर्द आह से
 
*************

मख्खन गया
अफसर पटाने में
कान्हा रूठे


  ज़ोया 






10 टिप्‍पणियां:

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार ७/५ १३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

Rajesh Kumari ji...aap mere blog tak aayi...meri post ko sraahaa..aapk atah e dil se shurkiyaaaaa....

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…


बहुत सुंदर

Aditi Shukla ने कहा…

Bahut accha likhti hain aap.... mind blowing... Visit me on "aditishuklarocks.blogspot.in"

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर.....
नाज़ुक सी प्रस्तुति.....

अनु

बेनामी ने कहा…

राहें बदली
वजह मामूली सी.... सिर्फ अना.......

दिगम्बर नासवा ने कहा…

गहरा एहसास लिए हैं ये हाइकू भी ...

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

Rajesh Kumari ji
bahut bahut dhanywaad

VenuS "ज़ोया" ने कहा…


महेन्द्र श्रीवास्तव and Aditi Shukla ji
bahut bahut dhanywaad

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

दिगम्बर नासवा ji
shurkiyaa