मंगलवार, मई 27, 2014

दिन रात बिगड़ने लगते हैं मेरे

                   
मैं पृथ्वी की तरह
रात से दिन घूमती
अपनी ही धुरी पर
ना जाने कब से
फिर भी रुकी हूँ
युगों से एक ही रास्ते पर
नियति की परिधि पे
निरंतर गोल-2 घूमती
रुकी सी एक ही रस्ते पे
कोई उल्का , कोई क्षुद्रग्रह
गुज़रे जो कभी पास से
तो सोचती हूँ इक पल को
रुकूँ .. मूडु . ..उस और
मगर, मुड़ नहीं पाती
और रुक भी नही पाती
दिन रात बिगड़ने लगते हैं मेरे
ज़ोया****

15 टिप्‍पणियां:

Kuldeep Thakur ने कहा…

नयी पुरानी हलचल का प्रयास है कि इस सुंदर रचना को अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
जिससे रचना का संदेश सभी तक पहुंचे... इसी लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 29/05/2014 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...

[चर्चाकार का नैतिक करतव्य है कि किसी की रचना लिंक करने से पूर्व वह उस रचना के रचनाकार को इस की सूचना अवश्य दे...]
सादर...
चर्चाकार कुलदीप ठाकुर
क्या आप एक मंच के सदस्य नहीं है? आज ही सबसक्राइब करें, हिंदी साहित्य का एकमंच..
इस के लिये ईमेल करें...
ekmanch+subscribe@googlegroups.com पर...जुड़ जाईये... एक मंच से...

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

Kuldeep ji...bahut bahut shukriyaaa aapkaa...:)

Vaanbhatt ने कहा…

दूसरों के लिए जीने वाले अपने दिल की कहाँ कर पाते हैं...बहुत खूब...

Onkar ने कहा…

बहुत खूब

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

vaanbhat ...hmm...aap ne bilkul sahii nabz pakdii...shurkiyaa...

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

onkar ji ..thanx yahaan tak aane aur psnd krne ke liye

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत खूबसूरत अहसास |

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत रचना...

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

imraan ji..bahut bahut shukriyaa

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

sushmaa ji...aap khud itna khobsurat likhti he..aapse aise shabd pana...bahut bahut dhanywaad

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

kailaash ji shurkiya

बेनामी ने कहा…

Ridiculous story there. What happened after? Take care!


Also visit my web blog; Shoe Lift

बेनामी ने कहा…

always i used to read smaller content that also clear their motive, and that is also
happening with this post which I am reading at this time.


Feel free to visit my web site ... Foot Pain symptoms

डॉ. कौशलेन्द्रम ने कहा…

सूख कर झड़े पत्तों की सरसराहट को एकदम ठीक-ठीक सुन पाना कहाँ से सीखा ? इत्ती कम उम्र में इतनी परिपक्वता !!!